नीतीश कैबिनेट में आठ नए मंत्री शामिल

मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने रविवार, 2 जून 2019 को अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया। पूर्वाह्न 11.30 बजे राजभवन में राज्यपाल लालजी टंडन ने आठ नए मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। इसके उपरान्त उनके विभागों की भी घोषणा कर दी गई। कुछ मंत्रियों के विभागों में फेरबदल भी किय़ा गया। इस मंत्रिमंडल विस्तार में शामिल किए गए सभी मंत्री जदयू के हैं, जबकि भाजपा ने अपने कोटे की जगह को बाद में भरने का फैसला किया। विदित हो कि लोकसभा चुनाव के बाद संसद पहुंचे मंत्री श्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह, श्री दिनेशचन्द्र यादव और श्री पशुपति कुमार पारस ने इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद मंत्रिमंडल विस्तार को तय माना जा रहा था। 


बहरहाल, इस विस्तार में जदयू के जिन आठ नेताओं को नीतीश मंत्रिमंडल में शामिल होने का मौका मिला, उनके नाम और विभाग इस प्रकार हैं: श्री नरेन्द्र नारायण यादव (लघु जल संसाधन विभाग तथा विधि विभाग), श्री श्याम रजक (उद्योग विभाग), श्री अशोक चौधरी (भवन निर्माण विभाग), श्रीमती बीमा भारती (गन्नाप विकास विभाग), श्री रामसेवक सिंह कुशवाहा (समाज कल्याुण विभाग), श्री नीरज कुमार (सूचना व जनसंपर्क विभाग), श्री लक्ष्मेश्वर राय (आपदा प्रबंधन विभाग) और श्री संजय झा (जल संसाधन विभाग)। इनमें पांच विधायक और तीन विधानपार्षद हैं। 


नए मंत्रियों को शामिल करने के अलावा मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने कुछ मंत्रियों के विभागों में फेरबदल भी किया, उनके नाम और अब वे जिस विभाग का काम देखेंगे वे इस प्रकार हैं: श्री जयकुमार सिंह (विज्ञान व प्रावैधिकी विभाग), श्री महेश्वमर हजारी (योजना व विकास विभाग), श्री प्रमोद कुमार (कला-संस्कृकति व युवा विभाग), श्री बिनोद कुमार सिंह (पिछड़ा-अति पिछड़ा वर्ग कल्या्ण विभाग), श्री कृष्णं कुमार ऋषि (पर्यटन विभाग) और श्री ब्रज किशोर बिंद (खान व भूतत्वक विभाग)। 


केन्द्रीय मंत्रिमंडल में जदयू द्वारा सांकेतिक प्रतिनिधित्वभ अस्वीगकार करने के तीन दिनों बाद बिहार के इस मंत्रिमंडल विस्तार के अलग राजनीतिक मायने भी निकाले जा रहे हैं और इसे एनडीए में आए तथाकथित दरार का परिणाम बताया जा रहा है। इस संबंध में मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने कहा कि एनडीए में कहीं कोई दरार नहीं है। मंत्रिमंडल विस्ताबर को लेकर भाजपा से बातचीत हो चुकी थी। भाजपा ने तय किया कि उनके कोटे का मंत्रिमंडल विस्ता‍र आगे किया जाएगा। उन्हों ने कहा कि मंत्रिमंडल विस्ता र की जरूरत इसलिए थी कि विधानमंडल का सत्र आने वाला है। सत्र के दौरान कम मंत्री रहने के कारण मुश्किल होती। मंत्रियों के अधिकांश पद जदयू कोटे के ही थे, इसलिए आठ मंत्री बनाए गए। 


उधर भाजपा के वरिष्ठ नेता व उपमुख्य मंत्री श्री सुशील कुमार मोदी ने भी कहा कि मंत्रिमंडल विस्ताजर को लेकर कोई विवाद नहीं है। मुख्यमंत्री ने भाजपा कोटे के मंत्रियों की रिक्तियां भरने की पेशकश की थी। लेकिन पार्टी नेतृत्व ने फिलहाल इसे टाल दिया है। उन्होंने अपने ट्वीट में भी इसे दुहराया।

Magazine

Facebook

Janata Dal United

आप जनता दल यूनाइटेड के आधिकारिक वेब पोर्टल पर हैं। आप चाहें तो हमसे संवाद भी करें। सुझाव हों, तो जरूर दें, हम स्वागत करेंगे।       संवाद

Contact Us

149, MLA Flat, Virchand Patel Path
Patna-800001
jdumedia@gmail.com

Follow Us

Janata Dal United